What is Embedded System Explain in Hindi-एंबेडेड सिस्टम क्या है

एंबेडेड सिस्टम क्या है?Explain embedded system and its hardware in details?

Table of Contents

एंबेडेड सिस्टम यह कंप्यूटर सिस्टम है यह combination है कंप्यूटर प्रोसेसर , कंप्यूटर मेमोरी और input/output पेरीफेरल डिवाइसे का जिसे dedicated फंक्शन दिया जाता है बड़े मैकेनिकल और इलेक्ट्रिकल सिस्टम में।इसे embedded किया जाता है एक part की तरह पूरे complete डिवाइस में इलेक्ट्रिकल,इलेक्ट्रॉनिक हार्डवेयर और मैकेनिकल parts के साथ।जैसे कि हमें पता है कि एंबेडेड सिस्टम यह combination है हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का।
हार्डवेयर component जैसे की पावर सप्लाई,प्रोसेसर,मेमोरी,टाइमर और काउंटर्स यह सब मिलकर एंबेडेड हार्डवेयर बनाते हैं।

Detailed view of embedded hardware-संक्षेप में जानते हैं एंबेडेड हार्डवेयर को

1.Power supply/पावर सप्लाई

पावर सप्लाई बहुत ही essential पार्ट है एंबेडेड सिस्टम सर्किट का। एंबेडेड सिस्टम को जरूरत होती है 5 volts पावर सप्लाई या low पावर जोकि 3.3 एवं 1.8voltsहो सकते हैं।
जो सप्लाई दी जाती है वह या तो बैटरी या एडाप्टर की मदद से provide की जाती है।यह हालांकि एप्लीकेशन की need के ऊपर depend करता है।

Characterstic of good power supply-करैक्टेरिस्टिक्स आफ गुड पावर सप्लाई /विशेषताएं अच्छी पावर सप्लाई के

• Stable & Smooth Output
• Proper Output Current to Drive the Load
• Perfect Power Efficiency
• Stable in Different Temperature Range
• Proper Noise Filtering
• Proper Decoupling
• Line Regulation – Fluctuation in output while input changes
• Load Regulation – Fluctuation in output voltage when load current changes
• Efficiency
• Input/Output Ripple Voltage
• Transient Response
• Allowable Dissipation

2.Processor/प्रोसेसर
प्रोसेसर यह एक main brain है एंबेडेड सिस्टम के अंदर।
यह एक मेजर factor है जो कि सिस्टम के परफॉर्मेंस को affect करता है। मार्केट में बहुत से अलग-अलग प्रोसेसर available है।एंबेडेड सिस्टम या माइक्रोकंट्रोलर एवं माइक्रो प्रोसेसर का use करता है।
प्रोसेसर यह बहुत ही विभिन्न आर्किटेक्चर में आते हैं,जैसे कि 8bits,16bits एवं 32bits प्रोसेसर।
8 bits processorआमतौर पर यूज़ की जाती है छोटे एप्लीकेशन में जहां हमें जरूरत होती है basic कंप्यूटेशन की जैसे इनपुट एवं आउटपुट heavy प्रोसेसिंग की।
higher एंड एप्लीकेशन जहां पर performance बहुत मायने रखता है एवं ग्राफिकल यूजर इंटरफेस की जरूरत पड़ती है वहां यूज किया जाता है 16bits या 32bits प्रोसेसर

क्राइटेरिया क्या है प्रोसेसर के सिलेक्शन के लिए
What are the criteria for selecting the processor?
• Speed
• Unit Price
• Packaging
• Performance
• Peripheral Set
• Timer on the Chip
• Operating Voltage
• Number of I/O Pins
• Power Consumption
• Amount of RAM and ROM
• Specialized Processing Units
• Architecture 8-bit, 16-bit, or 32-bit
• Availability of Supplier for a given core
• Easy to upgrade to higher or lower power consumption mode
• Availability of Software tools like assembler, debugger, compiler, emulator and technical support

3.Memory/मेमोरी
अगर हम यूज कर रहे हैं माइक्रोकंट्रोलर का जैसे कि AT89s51, AT89s52 या ATmegha
मेमोरी एक chip में available होती है। एंबेडेड सिस्टम में मेमोरी दो तरह की होती है।
रीड ओनली मेमोरी/Read-Only Memory (RAM)
रेंडम एक्सेस मेमोरी/Random Access Memory
इलेक्ट्रिकली इरेजेबल प्रोग्रामेबल रीड ओनली मेमोरी/Electrically Erasable Programmable Read- Only Memory

RAM मेमोरी एक volatile मेमोरी है तथा temporary data स्टोरेज के लिए यूज़ की जाती है।तथा उसका सिलेक्शन डिपेंड करता है यूजर के need के ऊपर और एप्लीकेशन के ऊपर।
ROM मेमोरी या कोड मेमोरी यह प्रोग्राम के स्टोरेज के लिए यूज़ की जाती है एक बार सिस्टम पावरचालू करने पर सिस्टम कोड लेता है ROM मेमोरी से।
EEPROM यह एक यूनिक मेमोरी है contentको या तो मिटाया जा सकता है या तो रिप्रोग्राम किया जा सकता है high voltageपल्स इनपुट द्वारा।जो कि यूज़ किया जाता है डाटा को स्टोर करने के लिए स्वयं प्रोग्राम द्वारा।

4. Timers-counters/टाइमर्स-काउंटर्स

कुछ एप्लीकेशंस में हमें delay genrate करना होता है।
जैसे की LED blinking यहा हमें delay की जरूरत होती है। पर यहां कुछ issues है जब हम delay जनरेट कहते हैं नॉर्मल कोडिंग स्टाइल से एक loop बनाने के लिए जो कि particular टाइम पर चलता रहे। हालांकि यह हमें delay दे सकता है loop होने के कारण यह waiting स्टेट में रहता है। इसी कारणवश delay जनरेट करना यह best approach नहीं है।
ऐसे ही एप्लीकेशंस के लिए जहां हमें delay की जरूरत पड़ती हो कुछ एक समय के interval के लिए नॉर्मल कोड के एग्जीक्यूशन को affect ना करते हुए वहा हम टाइमर सौर काउंटर का यूज करते हैं।

Leave a Comment