majedar kahaniya-7 मजेदार कहानियां

Majedar kahaniya-मजेदार कहानियां

7 ajab gajab majedar kahaniya sirf hindiforu mei…..

Majedar kahani-पैसे का कैसा लोभ

एक धनी व्यक्ति दिन-रात अपने व्यापारिक कामों में लगा रहता था। काम का काफी बोझ होने के कारण वह अपने बच्चे और पत्नी को समय नहीं दे पाता था। वही उस व्यक्ति के पड़ोस में एक मजदूर रहता था। जो मेहनत मजदूरी कर दिन का एक रुपए कमा लाता था। उस एक रुपए से ही उसका गुजारा चल जाता। उसका परिवार प्रेम पूर्वक रहता और हंसी खुशी समय बिताता था।

यह देख व्यापारी की पत्नी बहुत हताश हो गई। उसके मन में विचार आया कि यह मजदूर होकर कैसे इतने सकुशल गृहस्ती चला लेते हैं।

व्यापारी की पत्नी ने उसका यह दुख व्यापारी के साथ साझा किया। व्यापारी की पत्नी ने कहा इतनी धन संपत्ति का क्या फायदा।जिसके चक्कर में हम अपना आनंद और हंसी खुशी के पल ही भूल जाए।

व्यापारी भी इस बात को नकार ना पाया। व्यापारी बोलने लगा लोभ का फंडा ऐसा ही है जो इस के चक्कर में पड़ा वह मानो इसमें फस कर रहेगया।यह मजदूर भी आकर पैसे के फेर में पड़ा तो इसकी जिंदगी भी मेरे जैसे ही हो जाएगी।

व्यापारी और व्यापारी की पत्नी ने सोचा क्यों ना इस चीज की परीक्षा ली जाए। दोनों ने मिलकर एक पोटला बांदा जिसमें ₹99 उन्होंने रख दिए। और वह पुतला रात के अंधेरे में उन्होंने मजदूर के घर फेंक दिया।

सुबह उठकर जब मजदूर ने वह पोटला देखा तो वो खुशी से गदगद हो गया। उसने अपनी पत्नी को बुलाया और पैसों से भरा पोटला उसे दिखाया। जब दोनों ने मिलकर उस पोटली में रखी धनराशि को गिना तो वह ₹99 थे।

उनके मन में विचार आया क्यों ना इस ₹99 को पूरा ₹100 कर दिया जाए। इसी लोभ के चक्कर में पड़ कर दोनों दिन रात मेहनत करने लगे। आठ आने आठ आने बचाकर वह उसे पूरा ₹100 बनाना चाहते थे। अब तो मानो उनको पैसे जमा करने का चस्का लग गया।

उनकी यह दुर्दशा व्यापारी की पत्नी छत से देख रही थी। व्यापारी की पत्नी ने फिर सोचा की यह पैसे का कैसा लोभ जो भी इस के चक्कर में पड़ा। उसने अपने बहुमूल्य आनंदित जिंदगी को खराब कर दिया। चाहे वह छोटा आदमी हो या बड़ा पैसे कमाने की होड़। इंसान का मस्तिष्क खराब कर देती है।

Majedar kahani-गीदड़ की कंजूसी

Majedar hindi kahaniya-गीदड़ की कंजूसी

Majedar kahani-चार मूर्ख

majedar kahaniya in hindi-चार मूर्ख Majedar kahani

Majedar kahani-योग्य राजा का चुनाव

Hindi majedar kahaniya-योग्य राजा का चुनाव Majedar kahani

Majedar kahani-डॉक्टर से हिसाब बराबर

Doctor ki kahani-डॉक्टर से हिसाब बराबर Majedar kahani

Majedar kahani-चालाक महिला

Majedar story-चालाक महिला||majedar kahaniya in hindi

Majedar kahani-कैसे हुए कौए काले

majedar kahani-कैसे हुए कौए काले?baccho ki majedar kahaniya

Leave a Comment