Hindi majedar kahaniya-योग्य राजा का चुनाव Majedar kahani

Hindi majedar kahaniya-योग्य राजा का चुनाव Majedar kahani

Dosto jindagi mei khushi ke pal bhaut kam ate hai parantu humasa  khush wahi rehta hai jo dukh mei bhi khushi dhund leta hai. Bin wajah khush hua toh log pagal samjega toh fikar na kare apke khushi ke liya hum laye hai hindi majedar kahaniya jo puri tarah hindi mei hai. Puri Hindi majedar kahaniya-योग्य राजा का चुनाव Majedar kahani ko padhe aur hume jarur bataye ki kaisi thi kahani. Aapko kahani padhne mei maja aya ki nhh aur bhi bate jo aap share karna chahe woh aap hume comment mei bataye. Hindiforu-only for your smile.

योग्य राजा का चुनाव

  सुनहरी वन का राजा शेर अत्याधिक बूढ़ा हो गया। बूढ़ा होने का कारण शेर का शिकार करना भी मुश्किल हो गया। नहीं निकलने के कारण शेर जंगल में शासन भी नहीं कर पा रहा था।इसी कारण जंगल में बहुत अशांति होने लगी सब अपने मनमर्जी का करने लगे।

एक दिन शेर ने सभी जानवरों को अपने पास बुलाया और कहा कि तुम सब मिलकर एक नए राजा का चुनाव करो।ऐसा करने से जंगल में फिर से शांति लौट आएगी और जंगल को एक नया राजा भी मिल जाएगा।मैं और अधिक राजा नहीं रह सकता।

इस कारण मैं तुम सभी जानवरों से जल्द से जल्द नए राजा को चुनने की आशा करता हूं। ऐसा बोलकर शेर ने सब को जाने को कहा।

बाहर आकर सब विचार करने लगे कि राजा कौन बनेगा? सब जानवर खुद को ही श्रेष्ठ मानते थे। इसी कारण सभी जानवरों के बीच में मतभेद पैदा हो गए। अब फैसला कैसे हो इस पर प्रश्न उठने लगे। बहुत कोशिश के बाद कोई उपाय ना देख कर।

खरगोश ने सुझाव दिया कि क्यों ना सभी जानवरों की क्षमता परखी जाएं। सब खरगोश की बात से सहमत हो गए। सभी जानवरों को उनकी क्षमता के अनुसार काम दिया गया। काम संपूर्णा होने पर काम की समीक्षा की जाएगी और राजा का फैसला किया जाएगा।

सभी का काम खत्म होने पर सब वहां इकट्ठा हुए। परंतु मोटे हाथी को गड्ढे में पत्थर फेंकने का जो काम दिया गया था। उसने वह काम नहीं किया। इसी कारण फिर से कोई उपाय नहीं निकल पाया। इस पर गरुड़ सामने आते हुए बोले। अब हम मतदान की ओर बढ़े गे।सभी को गरुड़ की बात पसंद आई।

Yeh kahani bhi jarur padhna asa karega ki yeh bhi apko achi lage

सभी ने अपना मत दिया। जब सबके मत की गिनती की गई। तो सर्वाधिक वोट मोटू हाथी को मिले थे। जंगल के सभी जानवर हैरान हो गए। इस पर एक चिड़िया सामने आकर बोली यह बिल्कुल सत्य है मोटू हाथी ही राजा बन सकते हैं। सबके पूछने पर चिड़िया ने कहा। मोटू हाथी को जो गड्ढे पर पत्थर फेंकने कहां गया था।

वह गड्ढे में मेरे अंडे रखे थे।मोटू हाथी ने अंडे देखते हुए उस गड्ढे को भरना उचित नहीं समझा।और उन्होंने राजा बनने की ख्वाहिश बिना किसी स्वार्थ के छोड़ दिया। इसीलिए ही मोटा हाथी को सर्वाधिक वोट है।

चिड़िया की बात सुनकर सभी को मोटे हाथी की इस विचार का पता चला और सभी ने उसे राजा का दर्जा देते हुए राजा घोषित कर दिया।

Related hindi majedar kahani

डॉक्टर से हिसाब बराबर- Majedar kahani

Majedar story-चालाक महिला

Related searches

majedar kahaniya
kahaniya majedar
hindi majedar kahaniya
majedar kahaniya in hindi
majedar kahaniya hindi
majedar hindi kahaniya
kahaniya majedar kahaniya
hindi kahaniya majedar

Leave a Comment