Hindi kahani-लोभ का अंत ||Hindi short story

Iss post mei aapke liye laye hai hindi kahani iss hindi kahani se apko ant mei ek sikh milage isse jarur padhe aur humare website ko jarur visit karte rahe-Site

                                  लोभ का अंत

    एक लोभी राजा ने अथाह धन संपत्ति जमा की थी।फिर भी उसका लोभ कम ना हुआ।एक दिन गुरु नानक देव जी उसके राज्य में गए।उनका स्वागत करने के लिए वह आया और उन्हें अपने महल में ले गया।

   नानक जी ने आसन ग्रहण करते हुए कुछ कंकड़ पत्थर नीचे गिरा दिए।राजा ने उन्हें उठाते हुए उनके विषय में जानना चाहा।गुरुजी ने कहा हे राजन मृत्यु प्रांत में इन्हें अपने साथ ले जाकर ईश्वर को उपहार स्वरूप दूंगा। यह सुनकर राजा ने आश्चर्य प्रकट करते हुए तर्क दिया। किंतु, पर लोग जाने वाली आत्मा कंकड़ पत्थर तो क्या एक कण भी अपने साथ नहीं ले जा सकती है।

    गुरुजी भी राजा के ऐसे ही किसी उत्तर की अपेक्षा कर रहे थे तभी उन्होंने राजा को उसके किए की गलती बताते हुए कहा तो क्या आप अपने प्रजा को लूट कर जो धन संपत्ति एकत्रित कर रहे हैं उसे अपने साथ ले जाएंगे?इतना सुनते ही उस राजा को अपनी गलती का एहसास हो गया उसका जीवन ही परिवर्तित हो गया और इसके बाद उसने अपना धन प्रजा के हित में लगाना शुरू कर दिया।

Daily[ kahani hindi] list.

1.Gadha ki kahani

 

Leave a Comment