High level language in hindi-हाई लेवल लैंग्वेज के एडवांटेजेस

High level language in hindi-हाई लेवल लैंग्वेज के एडवांटेजेस.


इस पोस्ट का उद्देश्य यह है कि आपको high level language प्रोग्रामिंग के बारे में विस्तार से समझाया जा सके और इसके साथ ही हम देखेंगे कि इसके एडवांटेज तथा डिसएडवांटेजेस क्या-क्या है.high level language in hindi.Visitwebsite

हाई लेवल लैंग्वेज यह एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है,जैसे कि C langugae, Fortan या pascal।यह प्रोग्रामर को सक्षम बनाते हैं कि वह प्रोग्राम लिख सके जो ज्यादा या कम इंडिपेंडेंट हो किसी भी प्रकार के कंप्यूटर से।

इसी तरह के लैंग्वेज को हम हाई लेवल लैंग्वेज कहते हैं क्योंकि यह काफी पास होते हैं इंसानी लैंग्वेज एस के तथा दूर होते हैं मशीन लैंग्वेज से।

हाई लेवल लैंग्वेज यह प्रदान करते हैं हाई लेवल एब्स्ट्रेक्शन को machine langugae से।

यह डायरेक्टली सहभागिता नहीं करता है हार्ड वेयर के साथ बल्कि यह फोकस करते हैं कंपलेक्स अर्थमैटिक ऑपरेशंस में,ऑप्टिमल प्रोग्राम एफिशिएंसी में तथा इसके साथ ही कोडिंग को आसान बनाता है।

हाई लेवल लैंग्वेज को जरूरत होती है कंपाइलर या इंटरप्रेटर्स की ताकि हो ट्रांसलेट कर सके सोर्स कोड को मशीन लैंग्वेज में।कंपाइलर /इंटरप्रेटर यह कंपाइल कर सकता है सोर्स कोड को बहुत से मशीन लैंग्वेज में। इसी कारण यह मशीन इंडिपेंडेंट लैंग्वेज है।

 हाई लेवल लैंग्वेज के एडवांटेजेस

  1. हाई लेवल लैंग्वेज प्रोग्राम फ्रेंडली होते है।यह आसान होते है लिखने में debug करने में तथा मेंटेन करने में।
  2. यह हमें प्रदान करता है हाई लेवल एक्सट्रैक्शन मशीन लैंग्वेज एस के लिए।
  3. यह एक मशीन इंडिपेंडेंट लैंग्वेज।
  4. आसान होते है याद करने में।
  5. यह लैंग्वेज में आसानी होती हैं error को निकालने में तथा उसे debug करने में।

Leave a Comment