Ganpati ki aarti-श्री गणेश जी की आरती | aarti shri ganesh ji

Ganpati ki aarti-श्री गणेश जी की आरती | aarti shri ganesh ji

Yeh hai Sampoorn aarti shri ganpati baapa ki…Aap sabhi sochre hoge yeh aarti toh humne kabhi nhh sunni na kabhi padhi. Toh mitro mai batadu ki yeh bhi ek aarti hai ganesh ji ki jisse shri ganesh ji ki aarti kehte hai yadi aap search kar rahe hai
 JAI GANESH JAI GANESH DEVA MATA JAKI PARVATI PITA MAHA DEVA  toh iss link pe click kare LINK Aur iss aarti ko bhi apnaye. Toh chaliye suru karte hai ganpati ki aarti

श्री गणेश जी की आरती
गणपति की सेवा मंगल मेवा,
सेवा से सब विघ्न टरें।
तीन लोक के तैंतीस देवता,
द्वार खड़े अब अर्ज करें।।

रिद्धि सिद्धि दक्षिण वास विराजे,
अरु आनंद से चंवर करें।
धूप दीप और लिये आरती,
भक्त खड़े जयकार करें।। गणपति…..

गुड़ के मोदक भोग लगत है,
मूषक वाहन चढ़या करें।। गणपति…..

सौम्य रूप सेवा गणपति की,
विघ्नभाग जा दूर परें।। गणपति……

भादो मास और शुक्ल चतुर्थी,
दिन दोपहरा पूर परें।। गणपति……

लियो जन्म गणपति प्रभु जी ने,
दुर्गा मन आनंद भरे।। गणपति…….

श्री शंकर को आनंद उपजयो,
नाम सुने सब विघ्न टरें।। गणपति……

आन विधाता बैठे आसन,
इंद्र अप्सरा नृत्य करें।। गणपति…….

देखत वेद ब्रह्माजी जाको,
विघ्न विनायक नाम धरे।। गणपति……

एक दंत गजबदन विनायक,
त्रिनयन रूप अनूप धरे।। गणपति…….

दे श्राप श्री चंद्र देव को,
कला हीन तत्काल करें।। गणपति…..

चौदह लोक में फिरे गणपति,
तीन भुवन में राज करें।।गणपति…..

उठि प्रभात जब आरती गावे,
जाके सिर यश छत्र फिरे।। गणपति……

गणपति की पूजा पहले करनी,
कांज सभी निर्विघ्नं सरे।। गणपति……

श्री प्रताप गणपति जी को,
कर जोड़ स्तुति करें।।गणपति……

Aarti ki suchi ⇒

 

Leave a Comment