budhiya ki kahani-सोने की हांडी||Chalak budhiya ki kahani

budhiya ki kahani-सोने की हांडी||Chalak budhiya ki kahani

Iss [budhiya ki kahani] kahani mei budhiyan hai jo ek mushibut me aa jati hai……….. Acha lage toh jarur humare website ko visit karte rahe-Site.

सोने की हांडी

एक गांव में एक बुढ़िया और उसकी बेटी गीता रहती थी. एक बार 4 चोर कहीं से सोने से भरी हुई हांडी चुराकर बुढ़िया के गांव से गुजरे.बुढ़िया के घर के सामने ही 4-6 आम के पेड़ थे वही एक कुआं भी था.चारों चोरों ने सोचा क्यों ना यही नहा धोकर दाल बाटी बना खाकर आगे बढ़े और तब तक के लिए यह जोखिम (सोने से भरी हुई हांडी) बुढ़िया के पास रख दे.चोरों ने बुढ़िया को कहां हम में से किसी एक को या नहीं देना,जब हम चारों इसे मांगे तभी देना. बुढ़िया ने हां में सिर हिला दिया और हांड्डी लेकर घर में संभाल कर रख दी.

                  उसमें से एक चोर के दिमाग में चला की सूजी.वह अपने साथियों से बोला,क्यों ना बढ़िया से एक हांडी मांग कर उस में डाल पकाई जाए.वह बुढ़िया के पास जाकर बोला अम्मा व जोखिम दे दो.बुढ़िया बोली,वह अपने साथियों की ओर मुंह करके चिल्लाया,हंड्डी ले आएं?तीनों ने हामी भरी.चोर सोने वाली हंड्डी लेकर फरार हो गया. सुबह तीनों चोर बुढ़िया के पास पहुंचे और हांडी मांगी. गीता माजरा समझ गई और बोली पहले चौथे को लाओ.

Iss short hindi moral stories me apko maja aya ho toh niche humne aur bhi stories ka sangrah kiya hai ek bar unhe bhi dekh le.

1.कहानी-लोभ का अंत

2.कहानी- शेर और कुत्ता

3.कहानी-बंटवारे का फेर 

4.कहानी-आदर करना सीखो

5.कहानी-कुएं का विवाह

6.कहानी-मेल जोल का फल

7.कहानीसोने की हांडी

Leave a Comment