Akbar birbal kahani-आन पड़ी है | Akbar ki kahani

 Akbar birbal kahani-आन पड़ी है | Akbar ki kahani 

Akbar aur birbal ki kahaniya aaj ke yuva se lekar bujurgo tak prachalit hai. In kahaniyo mei hume birbal ki chaturai tatha hajir budhi najar aati hai. Aaj ki akbar birbal ki kahani hai aab toh aan padi hai niche puri kahani padhe Hindiforu

 आन पड़ी है 

अकबर बादशाह बहुत मजाकिया स्वभाव के थे। एक दिन उन्होंने नगर के कुछ सेठो के साथ मजाक करते हुए कहां- आज से तुम सब सेठ को पहरेदारी करनी होगी।

बादशाह का हुकुम सुनते ही सेठ घबरा गए और तुरंत बीरबल से फरियाद की।
बीरबल ने उनकी हिम्मत बढ़ाते हुए कहा- तुम सब पहरेदारी करो परंतु अपनी पगड़ी को पैर में और पैजामा को सिर पर लिए नगर में घूम घूम कर चिल्ला चिल्ला कर कहो कि अब आन पड़ी है।

दूसरी तरफ बादशाह भी अपना भेष बदल कर नगर की ओर निकल गए। जैसे ही बादशाह की नजर सेठों पर पड़ी बादशाह जोर जोर से हंसने लगे और उनसे सवाल पूछने लगे कि यह क्या है?

इस पर सेठों के मुखिया ने कहा बादशाह
हम ठहरे सेठ बचपन से हमने कभी पहरेदारी की ही नहीं अभी अचानक हम पहरेदारी सकुशल ढंग से कैसे कर पाएंगे।

बादशाह अकबर को सेठों के मुखिया की बात समझ आ गई और उन्हें यह भी समझ आ गया कि इन सब को यह सुझाव देने वाला और कोई नहीं बीरबल ही है।

Are rukiya

Akbar birbal ki kahaniya baki hai niche humne sampoorn list update kardi hai. List jaurur check kare…

Birbal ki kahani-ऊंट की गर्दन | akbar birbal ki kahani

Akbar ki kahani-अंधों की संख्या | akbar birbal ki kahani

Akbar birbal -आन पड़ी है | 

 

Leave a Comment